श्रीमत् परमहंस परिव्राजकाचार्य सदगुरू भगवान श्री श्रीधर स्वामी महाराज का हिंदी अनुवादित
संस्कृत काव्य
परिव्राडमननम्
इस काव्य को हिंदी में अनुवादित करके श्री अनंत जी काईतवाडे इन्होने बहुत ही बड़ी गुरुसेवा की है। उनके इस गुरुसेवा के लिए ShridharSahitya.com उनका ऋणी है। तथा 'श्रीसद्गुरुचरणरज' इन्होने किताब के 'स्केन्स' उपलब्द कराए है। ShridharSahitya.com उनके प्रति भी ऋण व्यक्त करता है।
(पीडीऍफ़ फ़ाइल् डाउनलोड करने के लिए पहले 'फुल्स्क्रीन' करे व तत्पश्चात दाए उपरी कोने में 'डाउन एरो' क्लिक करे, फ़ाइल् साइज़ ८ MB है)