मुमुक्षुधाम 
श्रीमत् परमहंस परिव्राजकाचार्य सदगुरू भगवान श्री श्रीधर स्वामी महाराज लिखित
यह स्केन्स उपलब्द कराने के लिये 'श्रीसद्गुरुचरणरज' इनका ShridharSahitya.com ऋणी है।